Type Here to Get Search Results !

Bottom Ad

आंवला: उपयोग, लाभ और दुष्प्रभाव | Amla: Uses, Benefits and Side Effects In Hindi

आंवला: उपयोग, लाभ और दुष्प्रभाव

Contents:
  1. आंवला की रासायनिक संरचना(chemical composition of Amla)
  2. अमला के अन्य नाम(Other names for Amla)
  3. अमला के औषधीय और स्वास्थ्य लाभ(Medicinal and health benefits of Amla)
  4. आंवला और उच्च रक्तचाप(Amla and high blood pressure)
  5.  मधुमेह में आंवला(amla in diabetes)
  6. आंवला और पाचन(Amla and Digestion)
  7. आंवला और मानसिक स्वास्थ्य(Amla and mental health)
  8. आंवला और वजन घटाना(amla and weight loss)
  9. स्वस्थ आंखें(healthy eyes)
  10. अमला लेते समय सावधानियां(Precautions while taking Amla)

अमला क्या है और कैसा होता है(What is Amla and how is it) 

आंवला को आम तौर पर भारतीय करौदा के रूप में जाना जाता है। पेड़ों के जामुन औषधीय योगों के लिए उनके उपचार गुणों के कारण शक्तिशाली रूप से उपयोग किए जाते हैं। आंवले के पेड़ में छोटे जामुन होते हैं जो गोल और पीले-हरे रंग के होते हैं। इसके कई स्वास्थ्य लाभों के कारण इसे सुपरफूड कहा जाना चाहिए। प्राचीन आयुर्वेद में, आंवला को एक अलग नाम से जाना जाता है जैसे खट्टा, नर्स, अमरता और मां।

आंवला की एक अनूठी स्वाद विशेषता तीखा, कसैला, मीठा, कड़वा, खट्टा और इसके अलावा पांच अलग-अलग स्वादों से भरा है; यह मन और शरीर के बेहतर स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। यही कारण है कि इसे दिव्य औषधि "दिव्यऔषध" के रूप में जाना जाता है। आंवला को संस्कृत में अमलकी कहा जाता है, जिसका अर्थ है जीवन का अमृत।

आंवला की रासायनिक संरचना(chemical composition of Amla)

आंवला फल एस्कॉर्बिक एसिड (विटामिन सी), कैरोटीन का एक समृद्ध स्रोत है। इसमें विभिन्न पॉलीफेनोल्स जैसे एलाजिक एसिड, गैलिक एसिड, एपिजेनिन, क्वेरसेटिन, ल्यूटोलिन और कोरिलागिन होते हैं। आंवला की अनुमानित रचना नीचे दी गई तालिका में दी गई है।

  • घटक सामग्री (प्रति 100 ग्राम)
  • कार्बोहाइड्रेट 10 ग्राम
  • प्रोटीन 0.80 ग्राम
  • वसा 0.50 ग्राम
  • कुल कैलोरी 44 किलो कैलोरी
  • फाइबर 4.3 जी
  • मैग्नीशियम 10 मिलीग्राम
  • कैल्शियम 25 मिलीग्राम
  • आयरन 0.31 मिलीग्राम
  • पोटेशियम 198 मिलीग्राम
  • जिंक 0.12 मिलीग्राम

अमला के अन्य नाम(Other names for Amla)

  • संस्कृत में इसे अमलकी, श्रीफला, शीतलाफला, धात्री, तिष्यफला के नाम से जाना जाता है।
  • हिन्दी में इसे आमला के नाम से जाना जाता है।
  • मराठी में इसे अवला के नाम से जाना जाता है।
  • अंग्रेजी में इसे Indian Gooseberry के नाम से जाना जाता है।
  • कन्नड़ में इसे नेल्ली के नाम से जाना जाता है।
  • तमिल में इसे नेल्लिकाई के नाम से जाना जाता है।
  • तेलुगु में इसे उशीरी काया के नाम से जाना जाता है।
  • मलयालम में इसे नेल्ली के नाम से जाना जाता है।

अमला के औषधीय और स्वास्थ्य लाभ(Medicinal and health benefits of Amla)

1: आंवला और उच्च रक्तचाप(Amla and high blood pressure)

आंवला विभिन्न एंटीऑक्सीडेंट का एक समृद्ध स्रोत है। यह तनाव के दौरान मानव शरीर द्वारा उत्पादित मुक्त कणों को परिमार्जन करने के लिए एक ज्ञात एंटीऑक्सीडेंट गुण है। एंटीऑक्सिडेंट के साथ, आंवला में पोटेशियम की उल्लेखनीय मात्रा होती है। इसलिए पोटेशियम की रक्तचाप को नियंत्रित करने की क्षमता के कारण, रक्तचाप की समस्या से पीड़ित रोगियों के आहार में इसका नियमित रूप से उपयोग किया गया है। पोटेशियम द्वारा उच्च रक्तचाप के प्रबंधन में शामिल प्रमुख तंत्र रक्त वाहिकाओं को फैलाना है, जिससे रक्तचाप की संभावना कम हो जाती है। ऐसे में आंवला जूस पीना कारगर हो सकता है।

2: मधुमेह में आंवला(amla in diabetes)

परंपरागत रूप से, आंवला का उपयोग मधुमेह को नियंत्रित करने या नियंत्रित करने के लिए घरेलू उपचार के रूप में किया जाता है। मधुमेह के पीछे मुख्य कारण तनाव की स्थिति है। आंवला विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है। यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट है जो मुक्त कणों की पीढ़ी और ऑक्सीडेटिव तनाव के प्रभाव को उलटने में मदद करेगा।नियमित रूप से आंवला उत्पादों के सेवन से मधुमेह की संभावना को रोका जा सकता है। एक अन्य तंत्र में, आंवला के फाइबर शरीर में अतिरिक्त शर्करा को नियमित रक्त शर्करा के स्तर तक अवशोषित करने में मदद कर सकते हैं।

3.आंवला और पाचन(Amla and Digestion)

आंवला बेरीज में पर्याप्त घुलनशील आहार फाइबर होते हैं। आंत्र आंदोलनों को विनियमित करने में फाइबर की भूमिका होती है, जो चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम को दूर करने में मदद कर सकता है। आंवला में विटामिन सी की मात्रा अधिक होने के कारण यह आवश्यक खनिजों की अच्छी मात्रा को अवशोषित करने में भी मदद करता है। इसलिए इसका विभिन्न स्वास्थ्य पूरक के साथ तालमेल है।

4: आंवला और मानसिक स्वास्थ्य(Amla and mental health)

आंवला बेरीज के एंटीऑक्सिडेंट में एक मजबूत फ्री रेडिकल शमन क्षमता होती है, जो मस्तिष्क की कोशिकाओं की क्षति से बचने और याददाश्त बढ़ाने में मदद कर सकती है। यही कारण हो सकता है कि आंवला डिमेंशिया के मरीजों के इलाज में कारगर है।

5: आंवला और वजन घटाना(amla and weight loss)

वसा जमा होने का कारण धीमा चयापचय हो सकता है। अनियमित खान-पान की वजह से अवांछित जगहों पर चर्बी बनने लगती है। आंवला वसा के गठन को रोकने में मदद करता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। आमतौर पर वजन घटाने के लिए गुनगुने पानी के साथ कच्चा आंवला, कैंडी और आंवला पाउडर खाने की सलाह दी जाती है.

7: स्वस्थ आंखें(healthy eyes)

आंवला भी ए का एक अच्छा स्रोत है, जो आंखों के स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। आंवला बेरीज का विटामिन ए दृष्टि में सुधार करने में मदद करता है। यह धब्बेदार अध: पतन और नेत्रश्लेष्मलाशोथ के जोखिम को भी कम कर सकता है, जो उम्र बढ़ने के साथ आता है।

आंवला उत्पाद और उनकी अनुशंसित खुराक(Amla Products and Their Recommended Dosage)

आंवला की आयुर्वेदिक खुराक इसके प्रकार के अनुसार भिन्न होती है। आंवला उत्पादों के विभिन्न रूप

उत्पाद तैयार करने की खुराक/दिन(Product formulation dosage/day)
  • पाउडर:आधा चम्मच आंवला पाउडर गुनगुने पानी के साथ लें। 2 बार
  • कैप्सूल :1 - 2 आंवला कैप्सूल भोजन के बाद अतिरिक्त पानी के साथ लें। दिन में 2 बार
  • गोली :1 - 2 आंवला कैप्सूल भोजन के बाद अधिक पानी के साथ लें।दिन में 2 बार
  • कैंडी :भोजन के बाद 1 - 3 आंवला कैंडी लें। -
  • जूस  भोजन करने से पहले 3-4 चम्मच आंवले का रस लें। दिन में 2 बार

उपर्युक्त पूरक के अलावा, स्थानीय सुपरमार्केट में विभिन्न उत्पाद उपलब्ध हैं, जैसे आंवला मुरब्बा, आंवला-गाजर-चुकंदर का रस और आंवला चटनी।

अमला लेते समय सावधानियां(Precautions while taking Amla)

  • कुछ एलर्जी वाले लोगों के लिए आंवला उत्पादों के सेवन से रक्तस्राव का खतरा बढ़ सकता है।
  • मधुमेह के रोगी के लिए, आंवला को उचित सावधानी के साथ लिया जाना चाहिए क्योंकि इसके सेवन से रक्त शर्करा का स्तर काफी कम हो सकता है।
  • आंवला जूस की खुराक से त्वचा में रूखापन आ सकता है।
  • खांसी या बढ़े हुए कफ की समस्या होने पर अमल से बचना चाहिए।
  • सर्जरी के दौरान और बाद में आंवला की सिफारिश नहीं की जाती है, क्योंकि इससे रक्तस्राव का खतरा बढ़ सकता है।
पूछे जाने वाले प्रश्न

1.क्या आंवला कैंसर में फायदेमंद है?

जी हां, आंवला में विटामिन सी होता है, जो अपने आप में एक मजबूत एंटीऑक्सीडेंट है। यह कैंसर को मारने वाली कोशिकाओं की गतिविधि को बढ़ाता है। यह न केवल विकास को रोकने में मदद करता है बल्कि कैंसर कोशिकाओं के गुणन को भी रोकता है। विटामिन सी में मजबूत मुक्त कण मैला ढोने के गुण होते हैं, जो तनावपूर्ण स्थितियों के दौरान शरीर की मदद करेंगे।

2.क्या दस्त के लिए आंवला फायदेमंद है?

हां, डायरिया गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में मांसपेशियों का अत्यधिक संकुचन है जिससे ऐंठन और पेट में दर्द होता है। आंवला अपने एंटीस्पास्मोडिक गुण के कारण पेट की मांसपेशियों को आराम देने में मदद करता है।

3क्या मैं वजन घटाने के लिए नियमित रूप से आंवला खा सकता हूं?

हां, आंवला विभिन्न स्थानीय बाजारों में उपलब्ध है, जैसे कि साबुत फल, जूस, कैंडी और सप्लीमेंट्स। उन्हें मौखिक रूप से प्रशासित किया जा सकता है। अपनी फाइबर सामग्री के साथ, आंवला लंबे समय तक भूख को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है, जिससे शरीर के वजन को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। आंवला में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट चयापचय में सुधार कर सकते हैं, जो वजन घटाने के प्रबंधन के लिए आवश्यक है।

4.क्या आंवला बालों के लिए अच्छा है?

जी हां, आंवला का तेल बालों का झड़ना कम करने में उपयोगी होता है, साथ ही यह बालों के विकास को भी बढ़ावा देता है। आंवला मुक्त कणों से लड़ता है, जो इसकी एंटीऑक्सीडेंट क्षमता के कारण समय से पहले बाल सफेद होने का कारण बनता है। आंवला के इन सभी कार्यात्मक गुणों के साथ, यह एक आदर्श हेयर टॉनिक हो सकता है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

top below ad