नारी के प्रकार |शास्त्र के अनुसार स्त्रियों के प्रकार

नारी के प्रकार ! ज्योतिष शास्त्र और पुराणों में स्त्रियों के कई प्रकार के बारे में लिखा गया है, कि स्त्री कितने प्रकार की होती है ! उनके क्या लक्षण होते हैं उनका स्वभाव कैसा होता है ! ज्योतिष शास्त्र के अनुसार स्त्रियों को मुख्यतः निम्न पांच वर्गों में बांटा गया है !



नारी के प्रकार |Type of woman in hindi

 


नारी के प्रकार |नारी कितने प्रकर के होती है|शास्त्र के अनुसार स्त्रियों के प्रकार


1.शंखिनी 


  • शंखिनी स्वभाव की स्त्रियां स्त्रियों से थोड़ी लंबी होती है, इनमें से कुछ मोटी और कुछ दुर्बल होती है !
  • उनकी नाक मोटी, आंखें अस्तित्व और आवाज कम भी होती है !
  • यह हमेशा प्रसन्न दिखाई देती है और बिना कारण आक्रोश किया करती है, यह पति से रूठी रहती है !
  • शंखिनी स्त्री को पति की बात मानना गुलामी की तरह लगता है, इनका मन सदैव भोग विलास में डूबा रहता है !
  •  इनमें दया भाव भी नहीं होता, इसलिए यह परिवार में रहते हुए भी उनसे अलग ही रहती है !
  • ऐसी स्त्रियां संसार में अधिक होती है और ऐसी लड़कियां चुगली करने वाली यानी इधर की बात उधर करने वालों में से होती है !
  •  यह अधिक बोलती है, इसलिए लोग इनके सामने कम ही बोलते हैं ! इनकी आयु लंबी होती है  !
  • पिता का कुल और पति का कुल दोनों कुल इनके सामने नष्ट हो जाते हैं और अंत समय में यह बहुत दुख होती है ! ​यह उस समय मरने के बराबर इच्छा रखती है लेकिन मृत्यु नहीं होती ! 


2.चित्रिणी 

  • चित्रिणी स्त्रियां पवित्रता तथा स्वजनों पर स्नेह करने वाली होती है  यह हर कार्य बड़ी शीघ्रता से करती है !
  • इनमें भोग की इच्छा कम होती है और श्रंगार आदि में इनका मन अधिक लगता है !
  • इन से अधिक मेहनत वाला काम नहीं होता परंतु यह बुद्धिमान और विदुषी होती है !
  • गाना बजाना और चित्रकला इन्हें विशेष प्रिय होता है !
  • यह तीर्थ,ब्रत और साधु संतों की सेवा करनेवाली होती है !
  • चित्रिणी स्त्रियां दिखने में बहुत ही सुंदर होती है और इनका मस्तक गोलाकार, अंग कोमल और आँखें चंचल होती है !
  • इनका स्वर कोयल के समान होता है और बाल काले होते हैं !इस जाति की लड़कियां बहुत ही कम होती है यदि 
  • यदि इनका जन्म गरीब परिवार में हो तो इनके भविष्य में पटरानी के समान सुख भोगती है !
  • चित्रिण स्त्रियां अधिक संतान होने पर भी लगभग इनकी तीन संताने जीवित रह सकती है ! उनमें से एक का राजयोग होता है !
  •  इस जाति की लड़कियां की आयु लगभग 48 वर्ष की होती है! 


3.हस्तीनी

  • हस्तिनी लड़कियों का स्वभाव बदलता रहता है और इनमें भोग विलास की इच्छा अधिक होती है !
  • यह हंसमुख स्वभाव की होती है और भोजन अधिक करती है !
  • उनका शरीर थोड़ा मोटा होता है और यह प्राय आलसी प्रकृति की होती है !
  • इनके गाल, नाक, कान, और वह मस्तक का रंग गोरा होता है और इन्हें क्रोध अधिक आता है !
  • कभी-कभी इनका स्वाभाव बहुत क्रूर हो जाता है और इनके पैरों की उंगलियां टेडी मेडी होती है !
  • इनकी संतानों में लड़कियां अधिक होते हैं और यह बिना रोग के ही रोगी बनी रहती है !
  •  इनका पति अक्सर सुंदर और गुणवान होता है!
  • अपने झगड़ालू स्वभाव के कारण हस्तिनी स्त्रियां परिवार को क्लेश पहुंचाती है !
  •  इनके पति इनसे दुखी होते हैं और यह स्त्रियां धार्मिक कार्यों के प्रति अधिक आस्था नहीं रखती है !
  •  इन्हें स्वादिष्ट भोजन पसंद होता है !
  • उनकी परमायु 73 वर्ष की होती है और  विवाह के 4, 8, 12 अथवा 16 वर्ष में उनके पति का भाग्य उदय होता है !
  •  इनके दुष्ट स्वभाव के कारण ही परिवार में इनकी कोई पूछ परख नहीं होती !


4.पुंश्चली 

  • पुंश्चली स्वभाव की लड़कियों के मस्तक का चमकीला बिंदु भी मलिन दिखाई देता है !इस स्वाभाव वाली महिलाएं अपने परिवार के लिए दुख का कारण बनती है !
  •  इनमें लज्जा नहीं होती और यह अपने हाव-भाव से कटाक्ष करने वाली होती है !
  •  इनके हाथ में नव-रेखाएं होती है जो सिद्ध स्वस्तिक आदि उत्तम रेखाओं से रहित होती है !
  •  इनका मन अपने पति की अपेक्षा पर पुरुषों में अधिक लगता है और इसलिए कोई इनका मान सम्मान नहीं करता है !सभी इन की अपेक्षा करते हैं
  •  पुंश्चली स्त्रियों में युवा अवस्था के लक्षण 12 वर्ष की आयु में ही दिखाई देने लग जाते हैं और इनकी आंखें बड़ी और हाथ पैर छोटे होते हैं !
  • इनकी स्वर तीखा होता है और यदि किसी से सामान्य रूप से बात भी करती है तो ऐसा लगता है जैसे विवाद कर रही है !
  •  इनकी भाग्य रेखा और पुण्य रेखा छिन्न-भिन्न रहती है !इनके हाथ में दो शंख रेखाएं और नाक पर तिल होता है !


5.पदमिनी 

  •  सबसे उत्तम स्वभाव की स्त्रियां में पद्मिनी सबसे आगे रहती है ! समुद्र शास्त्र के अनुसार पद्मिनी स्त्रियां सुशील, धर्म में विश्वास कर रखने वाली तथा माता पिता की सेवा करने वाली वह अति सुंदर होती है !
  •  पद्मिनी स्त्रियां के शरीर से कमल के समान सुगंध आती है और यह लंबे कद व कोमल बालों वाली होती है !
  •  इनकी वचन मधुर होती है और पहली नजर में यह सभी को आकर्षित कर लेती है !
  •  इनकी आंखें सामान्य से थोड़ी बड़ी होती है और यह अपने पति के प्रति समर्पित रहती है! 
  • इनकी नाक, कान ,और हाथ की उंगलियां छोटी होती है !इनकी गर्दन शंख के समान होती है ! इनके मुख पर सदा प्रसंता दिखाई देती है!
  • पद्मिनी स्त्रियां प्रत्येक बड़े पुरुष को अपने पिता के समान, अपनी उम्र के पुरुषों को अपने भाई के समान,और छोटे को अपने पुत्र के समान समझती है !
  •  यह देवता, गंधर्व, मनुष्य सबका मन मोह लेने में सक्षम होती है,
  •  पर यह सौभाग्यवती, अल्प संतान वाली, पबित्रताओं में श्रेष्ठ, योग्य संतान उत्पन्न करने वाली, तथा आश्रितों का पालन करने वाली होती है !
  •  इन्हें लाल वस्त्र अधिक प्रिय होते हैं तथा इस जाति की लड़कियां बहुत ही कम होती है !  जिनसे इनका का विवाह होता है वह पुरुष बहुत भाग्यशाली होता है!


निष्कर्ष 

दोस्तों मुख्यतः यह थे 5 वर्ग की स्त्रियां जो उनका स्वभाव और लक्षण के बारे में बताते हैं ! लेकिन मैं अंत में बस इतना ही कहना चाहूंगा, की  हमको हर स्त्री की इज्जत और सम्मान करना चाहिए ! क्योंकि इस जीवन की नीव भी एक स्त्री ही  है ! स्त्रियों के बारे में हम शब्दों से बयां नहीं कर सकते ! नारी का दिल समुंदर जैसा विशाल होता है ! नारी का महानता ,त्याग और संघर्ष के आगे दुनिआ  झुकती रहती है ! धन्यवाद् 

Post a Comment

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।

और नया पुराने