Type Here to Get Search Results !

Bottom Ad

कागज़ का आविष्कार किसने, कब और कैसे किया? Invention of paper ?

कागज का इस्तेमाल तो आज पूरी दुनिया में हो रहा है ! क्या आपको कागज की खोज के इतिहास के बारे में पता है, कि कागज का आविष्कार किसने किया कब किया और कैसे किया ? भारत में कागज का आविष्कार कब से शुरू हुआ ?इस आर्टिकल में इन सभी प्रश्नो की ुअत्तर के बारे में जानेंगे !



 

कागज़ का आविष्कार किसने, कब और कैसे किया? Invention of paper ?



कागज़ का आविष्कार किसने किया:

आज के समय कागज के बिना हमारे सभी काम अधूरे हैं !चाहे बच्चों की पढ़ाई हो, या बैंक व्यापार, ऑफिस, आदि का काम में कागज की आवश्यकता पड़ती है ,यानि  हमें हर जगह इसकी ज़रूरत पड़ती है ! कागज को बनाने में घास, फूस, लकड़ी, कच्चे माल, और सैलूलोज आधारित उत्पाद का इस्तेमाल होता है !


मूल रूप से  कागज का आविष्कारक चीन को माना जाता है ! क्योंकि सबसे पहले कागज का ब्यबहार चीन के लोगों द्वारा ही किया गया था ! कागज का आविष्कार करने वाले शख्स का नाम है कै लुन, जो चीन के रहने वाले थे ! इन्होंने 202 ईसा पूर्व में हाम साम्राज्य के समय में कागज का आविष्कार किया था !


कै लुन द्वारा किए गए कागज के आविष्कार के पहले, लेखन के लिए आमतौर पर हड्डी, लकड़ी, बांस और कपड़े का इस्तेमाल किया जाता था ! इससे भी पहले 350 ईसा पूर्व मिस्र में पेपर बनाने के लिए,  पोपुलस नामक पौधे का इस्तेमाल किया गया था !जो नील नदी के पास पाया जाता था !पोपुलस नामक पौधे से ही,  पेपर नाम रखा गया था !


प्रारंभ में लेखन के लिए आमतौर पर, बांस या रेशम के टुकड़ों का इस्तेमाल किया जाता था ! लेकिन परेशानी यह थी, कि रेशम काफी महंगा था, और बांस काफी भारी होता था ! इसके बाद कै लुन ने एक ऐसा कागज बनाने की सूची,जो सस्ता होने के साथ-साथ हल्का भी होगा,और जिस पर लिखने में कोई परेशानी ना हो ! 


उस समय कै लुन ने भांग, शहतूत, पेड़ की छाल, तथा अन्य तरह के कपास की सहायता से कागज का निर्माण किया था ! यह कागज एक तरह से चमकीला, मुलायम, लचीला और चिकना होता था ! इसके बाद कागज का इस्तेमाल धीरे धीरे पूरी दुनिया करने लगा ! इस उपयोगी आविष्कार के कारण ही, कै लुन को कागज का संत भी बोला जाता है !


शुरुआत में कागज बनाने के लिए पौधों का इस्तेमाल किया जाता था ! दरअसल पौधों को पानी के साथ मिलाकर एक मिश्रण तैयार किया जाता था ! और इसके अंदर दुबई जाती थी !उस से धूप में सुखा दिया जाता था ! उसके बाद अलग-अलग पौधों का उपयोग करके अलग-अलग तरह से पेपर बनाए जाने लगे !


 जैसे-जैसे पेपर को बना वैसे ही पेपर और भी बेहतर होता गया ! पेपर क!आविष्कार तो हो गया था, लेकिन चीन इस पेपर को बनाने के तरीके को दुनिया में किसी को भी बताना नहीं चाहता था !और इसी कारण पेपर कई सालों तक सिर्फ चीन तक ही सीमित रहा !


भारत में कागज की शुरुआत  

भारत में कागज की शुरुआत सातवीं शताब्दी में हुई ! उस समय पेपर भारत में व्यापक रूप से नहीं खेल पाया था ! इसको पूरे भारत में फैलने में 12 वीं शताब्दी तक का समय लगा, बाद में इसका इस्तेमाल पूरे भारत में होने लगा ! 


भारत की सबसे पहली पेपर मेल 100 साल से भी ज्यादा पुरानी है !इसकी शुरुआत शेरपुर, पश्चिम बंगाल में 1812 में की गई थी ! पर उस समय पेपर की कम खपत की वजह से इसे सफलता नहीं मिली ! 



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

top below ad